शनिवार, 28 नवंबर 2009

क्षणिका

"अरे बाबा ! कह तो रही हूँ ना,
नहीं जाऊँगी  तुम्हें छोड़ के कभी!!"
...जाऊं, अब?
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.