मंगलवार, 15 मई 2012

Random Thoughts Continued

नहीं देखीं कई दिनों से तितलियाँ,
पर सुना है अंधे भी प्रेम कर सकते हैं.
अपने होने पर शर्म तो कभी महसूस नहीं हुई,
क्यूंकि प्रकृति ने ही चुना था मेरे होने को.
सृष्टि ने ही मुहर लगायी थी वर्तमान की मुझमें.
किन्तु फिर भी...
क्षमा प्रार्थी हूँ सारी सृष्टि से,
अपने किये के लिए....
एक छोटे से सुख के लिए,
अनंत काल का दुःख, दुःख नहीं लगता....
...लम्बा इंतज़ार सच को अनंत से गुना करता है.
इश्वर कोई नहीं है...
...बस आप हैं.
नहीं ! आप इश्वर नहीं हैं, बस आप 'आप' हैं.
हर पीड़ा में आप हैं,
हर सुख में आप हैं,
हर पीड़ा की मुक्ति के प्रयास में आप हैं...
हर सुख की तलाश में आप हैं.
सो,
आइये इश्वर को नकारें...
...जब तक की वो हमें मिल नहीं जाता.
आइये प्रेम स्वीकारें...
...जब तक की वो हमसे खो नहीं जाता.
आइये मृत्यु नकारें...
...जब तक की वो हो नहीं जाती.
(वैसे मृत्यु कभी नहीं होती, कौन मरा है भला  आज तक?)
तो आइये होना स्वीकारें...
..कम से कम वर्तमान तक.



48 टिप्‍पणियां:

  1. वाह्…………गहन भावों से भरी अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उड़ान अच्छी मूवी है ।
    साला ! सेक्स भी नहीं किया ! एकदम लड़की ।
    ...क्याप ।
    ...काट्ज़ ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सर आँखों पे नाव है तेरी...

    उत्तर देंहटाएं
  4. dikkat yahi hai na ke hum sab nakaar dene mein lage hain, maan lene k liye kitna kuch hai lekin hum manenge nahin(ye baat mujhpar bhi laagu hoti hai)..sawaal or jawab dono maan lene ka hai....wo humne karna seekha nahi.....jab bhi maan lena seekhne ki koshish karte hain tab bhi kuch or nakaar rahe hote hain.....nakaarna nakaarna nakaarna...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आईए वंदना जी सबसे पहले नकारने को स्विकारें । Let's accept all the denials. :-)

      हटाएं
    2. सब स्वीकार नहीं है इस बात को स्वीकार करें...

      हटाएं
    3. Freedom means 'to accept', everything, as it is....

      ...as they say, "Form is form, emptiness is emptiness."
      If I am in love I am in love, if I am happy, I am happy.

      Acceptance is cure of all (I don't say most, but all) of our starvation.

      Acceptance is salvation.

      हटाएं
    4. तो क्या अगर मैं बुरा हूँ तो बुरा ही रहूँ ???

      हटाएं
    5. If you think that you're bad then off course it's bad. If you think you're good then it's not good. Now what will you do?
      You'll not understand if you'll not stop thinking. And if you stop thinking, how will you understand?
      Katz!

      हटाएं
    6. Don't 'be'...
      ...just 'let it be'.
      Night comes and birds fly back to their home.

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. खुल के हँसने से ज़्यादा मज़ा खोल के हँसने में है ।

      हटाएं
  6. Amores Perros is a good movie ,"If you want to make God laugh, tell Him your plans."

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब विश्व समाज सुधार की बात कर रहा था, जब पूरे संसार में क्रांतियाँ हो रहीं थीं, जब सारे देश जल रहे थे और जब एक अनंत काल तक चलने वाले युद्ध की तैयारियाँ चल रही थीं तब मैं प्रेम में था । वो सब मुझे धिक्कार रहे थे मेरे इस कुकृत्य के लिए । मुझे तब भी लगा प्रेम सारी समस्याओं का हल है । मैंने एक वैश्या के होठों को चूमा और एक सैनिक की चिता में दो फूल चढ़ाए । मैंने एक भिखारी के लिए दो आँसूं बहाए और फिर मैं एक अस्सी साल के बूढ़े के बगल में बैठकर बाँसूरी बजाने लग गया । न मैं कृष्ण था न मैं नीरो ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'आप' और सिर्फ 'आप' हैं
    जबकि हकीकत में वहां पे 'आप' हैं ही नहीं
    वो तो 'आप' का प्रतिबिम्ब है
    जिसे चाहे 'आप' दुलारे या नकारें
    जिस दिन 'आप' उसे छूएंगे वो बुलबुले की तरह फूट जाएगा.
    और उसी दिन 'आप' अपने 'आप' को देख पायेंगे
    बिम्ब के रूप में, प्रतिबिम्ब के रूप में नहीं.

    उफ्फ्फ.........ये मैं क्या-क्या लिखने लगा हूँ. "दर्पण" में अपना चेहरा देखने पे बहुत कुछ दिखने लगता है. :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दर्पण के पैरलल दर्पण रख दो तो दर्पण के अनंत प्रतिबिंब बनते हैं जिसे दर्पण ही देख सकता है ।

      हटाएं
  9. अगर वादा करते हो ये युद्ध अंतिम होगा तो भी मैं इसके लिए प्रस्तुत नहीं हूँ । क्यूँकि मुझे अंतिम युद्ध का संजय बनना है । अगर वादा करते हो कि ये क्रांति अंतिम है तो भी मैं प्रस्तुत नहीं हूँ क्यूँकि मुझे देखने हैं इसके दीर्घकालिन परिणाम । अगर कहते हो कि ये चैन से बैठने का समय नहीं है और सारे राजनेताओं कार्परेटों ने तुम्हारी रोटी छीन ली तो बताओ कहाँ से खरीदे तुमने हथियार ? जो तुम्हारी आत्महत्याओं के जिम्मेवार थे तुम बन रहे हो उनकी हत्याओं के जिम्मेवार । सत्ता में जब तुम आओगे तो क्या एक और क्रांति नहीं होगी तुम्हारे खिलाफ । अगर तुम धर्म की खातिर लड़ रहे तो बोलो तुम्हारे ईश्वर ने क्यूँ बनाए अन्य धर्म ? साला । नपुंसक । तुम जैसे अच्छे लोगों को ड्रग्स की डोज़ दी है तुम्हारे ईश्वर ने तो तुम चुतिये बने बैठे हो ।
    बोलो कहाँ लड़ा जा रहा है संपूर्ण विश्व के लिए युद्ध । ऑल इन्कलूज़िव । सर्वजन हिताय । है एक ऐसी जगह । लेकिन उसके लिए पहले बाँसूरी बजाना सीखना होगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जब तुम धर्म के लिए लड़ने गये थे तुम्हारी पत्नीयाँ प्रेम में थी और उसने बनाए एक दूसरे धर्म के पुरुष से संबध । अपने बच्चों का डी एन ए मत करवाना क्यूँकि फिर तुमको अपनी माँ पर भी शक करना पड़ेगा । ये डिवाईन वॉर तो अनंत काल से जारी है...
    ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. निरुद्देश्य जीवन ही जीवन का उद्देश्य है ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Someone says : you will be mad one day.

      I told him : He is already mad.

      Women go, leave me alone please
      I can't do more love.

      Can I hate you in my loneliness?

      Please appreciate my mad Love. A complain love. Dont worry I wont destroy even in tight hug.

      हटाएं
    2. Love aka Lust ! Be Insane to understand. होशवालों को ख़बर क्या...

      हटाएं
    3. सुरा और सुंदरी के भोग में तो राहू और केतु भी खो गए थे, तू तो साधारण मानव है रे.................

      हटाएं
    4. अच्छा है । साधारण होना अकिंत भाई । साधारण होने के फायदे हैं कि सुरा और सुंदरी दूर से ही नमस्ते कर देती हैं ।
      "अरे इसके क्या मुँह लगना ये तो एनीवे साधारण मानव है ।" नो डिस्टरबेंस व्हॉटसोएवर ।
      (मुफलिसों का ख़ुदा है अगर, मुफलिसी में रहो ज़िंदगी)
      कमल का एक थॉट बड़ा हॉन्ट करता है," ईश्वर को उन चीज़ों के लिए भी धन्यवाद करना चाहिए जो हमें नहीं मिली ।" क्यूँकि उनका 'नहीं मिलना' बड़ा ज़रुरी था दोस्त ।

      हटाएं
  12. स्वयं के बाहर तो कोई अस्तित्व ज्ञात ही नहीं हमको।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. क्या स्व अस्तित्व पता है हमें क्यूँकि अपने से बाहर कोई अस्तित्व कहाँ है ?

      हटाएं
  13. Form is emptiness, emptiness is form. Winter comes, grass grows on its own. Love is contaminated since we talk a lot about it but hate is still in it's purest form. Let's talk less about love. Let's witness both. I hate I Love I accept.

    उत्तर देंहटाएं
  14. ज़िंदगी बहुत लम्बी है । इसलिए समय बिताने के लिए करना है कुछ काम । बातें कम 'काम' ज़्यादा । शादी करो । बच्चे पैदा करो । रुपये कमाओ । हो सके तो नाम कमाओ । और चैन से मर जाओ । दुनियाँ जाए भाड़ में हमें अपने भाड़ में जाने से मतलब हो बस । मर के भी चैन न मिले तो थोड़ा रो लो । दारू पिवा लो प्रेम करा लो बण जानी है लाईफ । और इस दिल में क्या रक्खा है, खुल्ला चकला बना रक्खा है । :-P

    उत्तर देंहटाएं
  15. नाचने का असली मज़ा बिना गीत के बोल सुने नाचने में है । बिना स्टेप्स की ओर ध्यान दिये नाचने में है । अकेले में नाचने में है । 'अभी' नाचने में है । बेसुध होकर नाचने में है ।
    PS: प्रेम का असली मज़ा भी ऐसा ही है ।
    PPS: 'धुण की लागी','छूमंतर' 'फिर से उड़ चला' और 'नादान परिंदे' जैसे गीत अकेले नाचने के लिए ही बने हैं । पर बोल भूल जाईए ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. भला हुआ मेरी मटकी फूटी मैं पनिया भरन से छूटी । मेरे मन में आया था कयी बार कि मटकी फोड़ूँ पर फिर घर वालों की चिन्ता बेचारे प्यासे हैं । सास गुस्सा करेगी । मेरी मटकी फूटी और मैं खिलखिलाके हँस रही हूँ । सहेलियाँ कहती हैँ तेरी मटकी फूट गयी तू हँसती है ?
    मैं पूछती हूँ मटकी कौन सी मटकी वो जो नहीं है ?
    सहेलियाँ कहती हैँ भले घर की बहुएँ ऐसा नहीं करतीं । मैं पूछती हूँ कौन सा घर ?
    सहेलियाँ पूछती हैं तू पागल तो नहीं हो गयी ?
    मैं कहती हूँ हाँ मैँ पागल हो गयी हूँ । पर मैँ कौन ?
    सहेलियाँ ताने देती हैं पागलों को भी प्यास लगती है ।
    मैं दौड़कर जाती हूँ और नदी में से चुल्लू भर पानी भरकर उन्हें चिढ़ाती हूँ ।
    "भला हुआ मेरी मटकी फूटी ..."
    Red is Red and Blue is Blue.
    Had the Red been Blue, then too it would have been Blue.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बिना सोचे लिखा नहीं जा सकता.. और सोचना ही होता तो .... हम प्यार नहीं कर रहे होते.... किसी की फ़र्माइश है कि कोसिस तो करो..... घंटा ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. कोशिश किस चीज़ की प्रेम करने की या लिखने की या सोचने की ? कोशिशें करो कमल कोशिशें अंत में कामयाब हो ही जाती हैं । कोशिश करने वाले के कामयाब होने की कोई गारण्टी नहीं ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. लोग मुश्किल किये बैठे हैं खुद को । कहीं आसान सा चेहरा नहीं मिलता । कोई सुलझा रिश्ता नहीं दिखता । एक झलक मासूम मुस्कान दिखे तो कोई ईश्वर से साक्षात्कार क्यूँ करना चाहे भला । बस एक बूँद ईमानदार पसीना बस एक बूँद प्रायश्चित के आँसू बस एक कतरा सुर्ख लहू और थोड़ी सी मेहनतकश हाँफती साँसें या फिर इंसान ही मिले कहीं मूँगफली चने खाता हुआ नैनिताल की मॉल रोड या दिल्ली के लाजपत नगर में तो उसका नाम पूछना । "अभी" । धत्त ! ये भी कोई नाम ठहरा ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. अस्तित्व : Existence : सत
    एक ओंकार सतनाम ।
    मोको कहाँ ढूँढे बन्दे मैं तो तेरे पास में...

    उत्तर देंहटाएं
  21. बेनामी24 मई, 2012 08:40

    निरुद्देश्य जीवन ही जीवन का उद्देश्य है ।


    :)

    manu

    उत्तर देंहटाएं
  22. Memory, mind, understanding and intelligence are all formulated here, and the consciousness of gods and enlightened ones.
    -Nanak
    As soon as you catch hold of the delicate thread of the formless within you, you begin to recognize the formless in the world outside.
    -Osho at Japuji-Saheb
    Zero degree thinking: Form is form emptiness is emptiness.(Attachment to form. 3x3=9)
    Ninty degree thinking: Form is emptiness, emptines is form.(Attachment to thinking, 0=1)
    One eighty degree: No form no emptiness.(Attachment to emptiness, 1x0=0, 1000x0=0)
    Two seventy degree thinking: Freedom form, freedom emptiness.( Attachmant to freedom 1+1=3000)
    Three seventy degree: Form is form, emptiness is emptiness.( No attachment.3x3=9)
    -Dropping ashes on buddha.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हा हा हा हा हा हा हा हा हा अहह हा हा हा हा हा...

      हटाएं
    2. दुनिया में ऐसी कोई जगह नहीं जहाँ छुड़ाया जा सके खुद से भी पीछा........

      हटाएं
    3. Waise ho kahan aap aajkal ? FB se bhi gayab ? Aapka G-Mail ID ?

      हटाएं
  23. इस fb नामक शहर में कितने दिन रहना होगा नहीं पता, ये है हमरा जीमेल का पता
    vandana.db@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. पहली बात तितलियाँ ही प्रेम की निशानी नही...जब सारे युद्ध समाप्त हो जायेंगे एक तितली तब भी रहेगी..और भी तो बहुत कुछ रहेगा...अंधे भी प्रेम कर सकते है ..देखना जरुरी नहीं पर किस बात के लिए प्रेम करें..कोई आवाज़ सुनेगा...कोई स्पर्श महसूस करेगा तभी तो प्रेम करेगा..शून्य में किसे प्रेम करेगा ?
    PS:बढ़िया अभिव्यक्ति बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  25. सवाल एक) किस बात के लिए प्रेम करें ?
    सवाल दो) शून्य में किससे प्रेम करेंगे ?
    उत्तर एक ) प्यार के लिए 'कुछ नहीं' कम नहीं है ।
    उत्तर दो ) 'वहाँ' तू नहीँ हैं, 'वहाँ' हम नहीं है ।
    PS: ये उत्तर प्रश्न करने से पहले दिया जा चुका है यूँ कि "क्वैश्चन के आते आते हल इक और लिख रखूँ, मैं जानता हूँ जो वो पूछेंगे सवाल में ।"

    उत्तर देंहटाएं
  26. If there is a motivation in it it's passion,
    W/O motivation it's compassion.

    उत्तर देंहटाएं
  27. hahaha is blog me itihaas he poora :)

    कौन मरा है भला आज तक||

    मरा तो कुछ भी नहीं पर पैदा होना बाकी है बहुत कुछ इस दिल में
    वो ताकत वो जूनून या कहें वो इल्म
    जो दिखा सके मुझे
    यहीं
    सब कुछ
    वर्तमान,

    ये तो पता हे मुझे,सब यहीं है
    पर आँखों के धुंधलके में
    अस्मिता की चादर ओढे
    छुपा छुपा सा हे ।।

    मरा कुछ भी नहीं
    पैदा होना भी जानने में आने से ज्यादा कुछ नहीं होगा
    पर जब होगा तब तक
    ये इंतज़ार बड़ा हे।

    उत्तर देंहटाएं

'ज़िन्दगी' भी कितनी लम्बी होती है ना??
'ज़िन्दगी' भर चलती है...

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.