रविवार, 27 जनवरी 2013

युवा

हमारा सवेरा ४ बजे का सात्विक सवेरा नहीं...
११ का 'हेंग ओवर' सवेरा है.
जो ज़िन्दगी के खट्टेपन को,
सपनों के नमक लगा के चाट डालता है.

हम,
जो बस,
पासे के फैंक दिए जाने के बाद से...
'हार जाने तक'
भर की उत्तेजना हैं.

हम,
चमकते खंजरों के पीछे घिसे हुए मौलिक,
फिंगर प्रिंट्स .
जिसकी शिनाख्त,
ग़ालिब आके नहीं कर सकते.

हम,
अपनी-अपनी प्रेमिकाओं को,
ओर्गेज्म और धोखा दिए जा चुकने के बाद,
दीवारों के ऊपर उकेरे गए...
कुंठित
शब्द विन्यास...
'शादी से पहले, एक बार अवश्य मिलें.'

हम बढ़ी हुई दाढ़ियों में छुपे हुए आत्म विश्वास हैं.
टिके रहने वाला पलायन हैं हम.
हम शराब की बोतलों से पैदा होने वाली छोटी छोटी अपेक्षाएं हैं...




एक) अपेक्षाएं 'मादा' होती हैं,
दो) इन्होनें अभी होश नहीं संभाला.
और,
तीन) भ्रूण हत्या बस 'कानूनन अपराध' भर है.

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सटीक धोया है..मन के निर्मित मैलों को।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सपनों के नमक! मीठे सपनों से इतर नमकीन सपने या मीठे सपनों से झरता नमक! खैर!
    बहुत दिन बाद आया और टुक-टुक देखता रह गया..अजीब भंगिमायें लेते हो भाई!
    और मैं मुरीद....

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमारा सवेरा ४ बजे का सात्विक सवेरा नहीं...
    ११ का 'हेंग ओवर' सवेरा है.
    जो ज़िन्दगी के खट्टेपन को,
    सपनों के नमक लगा के चाट डालता है ...
    ऐसे सामने बिठा कर दो टूक आमने-सामने की अभिव्यक्तियाँ जरा मुश्किल से पढ़ने में आती है ... आपके ब्लॉग एवं वॉल तक आना सार्थक रहा ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. साबित कर दिया सच को पचाना सच लिखने से ज्यादा मुश्किल होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. Howdy! Someone in my Facebook group shared this website with us
    so I came to take a look. I'm definitely loving the information. I'm bookmarking and will be
    tweeting this to my followers! Great blog and fantastic design and style.
    my web site: safe diets

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद सुंदर ..........शानदार /ईमानदार अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  7. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. जाने कोई केसे खुद को बाहर रख कर देख पता हे खुदको,
    या कोई मिरर रखा होता हे अपने सामने,
    जो भी हे बढ़िया हे ।। :)

    उत्तर देंहटाएं

  9. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

'ज़िन्दगी' भी कितनी लम्बी होती है ना??
'ज़िन्दगी' भर चलती है...

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.