शुक्रवार, 15 नवंबर 2013

कुछ फेसबुकिया बकबक (वो क्या कहते हैं वन लाईनर)


बारिशें पूरी बह चुकी थी, मगर कुछ दीवारों पे अब भी सीवन सी थी. 
....पलकें देखीं तुमने मेरी?

___________________________________


रात रात भर जाग कर पढ़ा है तुझे, कई बार रिवीजन भी किये हैं तेरे, 
जिंदगी मगर तेरे सवाल आउट ऑव सिलेबस हैं.
___________________________________


हर पल मुझमें जो इक आग लगती है न छोना, 
वो हर अगले पल बुझ जाती है, 
तूने भी तो मुझे चेन स्मोकर कहा था
हर टाल दिया गया ग़म 
बंद कमरे के ऊपर मंडराता सिगरेट का धुंआ है
घूम घूम कर आँखों में चुभता है

___________________________________

आज़ादी क्या है? 
बंधन क्या है? 
जाना है कभी तुमने इन्हें करीब से?
"तुम खुद को मुझसे मत छीनो प्लीज़, तब भी नहीं जबकि तुम मेरी खातिर ऐसा कर रही हो."

___________________________________

कभी कभी आज़ादी का मतलब स्वेच्छा से चुनी ग़ुलामी और ग़ुलामी का मतलब थोपी गयी आज़ादी भी होता है।

___________________________________

कैसे समझाऊं तुम्हें एक सीधी सी बात, 
जानते हो, तुम मेरे प्रेम के लायक केवल इसलिए हो पाए थे क्यूंकि मैंने तुम्हें प्रेम किया था।
मेरे अंतस के अनंत अव्यक्त का मात्र एक क्षुद्र मूर्त थे तुम।
मुझे आज भी लगता है मेरे प्रेम में बंधना एक मात्र मुक्ति थी तुम्हारी। किन्तु तुम मुक्त नहीं हो सके, क्यूंकि तुम बंधना नहीं चाहते थे।
आना कभी फिर अपने सम्पूर्ण अस्तित्व को लेकर मेरे पास। देखना तब लाखों अपने से भी विशाल शुद्ध-अहंकार मेरे शून्य-प्रेम के भीतर...
...अन्यथा दूर से तो छोटी ही दिखेंगी चीजें।

___________________________________

तुम्हारे पहलू में सर रखकर सोया था एक रोज़, कितना निश्चिन्त होकर ! तब से अब तक गर्दन में खंजर के निशान हैं.
यकीन है, तुमने न दिए होंगे !
'शोना'

___________________________________


समाज के व्यापक हित के लिए कुछ ऑटोबायोग्राफ़ीज़ लिखे जाने से पहले ही बैन हो जाती हैं.

___________________________________


दसियों बार दिल टूटा है तब जाकर ये एटीट्यूड आया है...
...आप अपना प्रेम रख लीजिये मैं अपना एटीट्यूड रख लेता हूँ।

___________________________________


मुझे इस बात का भी आश्चर्य है कि लोगों, तुम्हें आश्चर्य क्यूँ न हुआ?

___________________________________


और जब हजारों साल बाद हैकर्स को हम दोनों के पासवर्ड पता चलेंगे, तब हमारे इमोटिका सदा सदा के लिए अमर हो जायेंगे।

___________________________________


"फ़ेसबुक भी उतना ही वर्चुअल है जितनी ज़िन्दगी।"

___________________________________


वो जो इश्क था, वो तो मुफ़्त था, 
ये जो हिज्र है, ये टैक्स है।

मैं किसे कहूँ मुझे प्रेम कर,
यहाँ सब के माइंड में....

(देखा कहा था न!)

___________________________________


तंज़ मेरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं,
कुछ 'स्टेट्स' फ़कत उनको चिढ़ाने के लिए हैं। 

___________________________________

मेरे लिए नारी मुक्ति का इतना सा अर्थ है कि 'एक स्त्री को एक से अधिक प्रेम करने की स्वतन्त्रता होनी चाहिए।'

___________________________________


दर्पण से प्रेम करना, ख़ुद से प्रेम करना है

___________________________________


और फ़िर एक दिन सारे आनन्द मनाते जीव, जन्तुओं, शैवालों, वनस्पतियों, मशरूमों, मछलियों एवं पक्षियों आदि से इश्वर ने खीजकर ये वचन कहे,"बेट्टा ले लो चौरासी लाख जन्मों के मज़े, एक दिन तो बनोगे न मनुष्य भी तुम सबके सब।"

___________________________________


है कुछ ऐसी बात जो एबस्ट्रेक्ट है वरना,
क्या मुझे स्ट्रेट फ़ॉरवर्ड बातें नहीं आती।

___________________________________

हम कई नये रिश्ते पुराने असफल रिश्तों का बदला लेने के लिए बनाते आये हैं। दूध का जला सबको उबलता दूध पिलाता है। और इस तरह ये चैन रिएक्शन एक दिन सबके मुंह जला चुकता है।

___________________________________ 

सत्य जानना हर कोई चाहता है पर इसे अफोर्ड कर पाना मुश्किल होता है।

___________________________________ 

यादें कितनी ही बुकमार्क कर लें, आयेंगी बेतरतीब ही।

___________________________________ 

प्रेम की हैप्पी इन्डिंग नहीं हो सकती,
प्रेम की कोई इन्डिंग ही नहीं हो सकती।
जो चीज़ शुरू होती है, वो खत्म होती है अग़र
फ़िर प्रेम कब शुरू हुआ था बोलो?

___________________________________

दो आधे शुरुआत में जुड़ते हैं और बाद में द्विगुणित हो जाते हैं।

___________________________________

हम सब खुद से हारे हुए लोग हैं। हमारे सर अहम से तने हुए हैं लेकिन आत्माएं जैसे किसी ईर्ष्यालु पति की पत्नी की कनपट्टी पे थोड़ी देर पहले तक तनी पिस्टल। फुल्ली लोडेड।

___________________________________


कुछ चीजों का उद्देश्य उनके निरुद्देश्य होने में निहत है। जैसे प्रथम असफल प्रेम, रोज़ रात को फेंक दिया गया ब्लूबेरी केक, कुछ चाबियाँ, होठों से होठों में लगी आइसक्रीम साफ़ करना किसी पेस्ट्री शॉप की विडिओ डायरियां और आधी नींद में मुक्स्कुराना।

___________________________________

बात बस इतनी है कि तालों के चेहरों में इंतज़ार दिख जाता है, अन्यथा चाबियाँ गुच्छों में भी अकेली हैं।

___________________________________

कई बार असफलताएं आपको सुख देती हैं, जैसे किसी के भी ऊपर विश्वास न करने की ढ़ेरों असफल कोशिशें।

___________________________________

इश्वर बढ़िया स्क्रिप्ट रायटर है, लेकिन उसकी कविताएँ ज़्यादा बेहतर हैं।
एनी टाइम।

___________________________________


ईर्ष्या एवं घृणा के मध्य 'सम्मान' की पतली रेखा है।
Between Jealousy and Aversion, There is a fine line of 'Respect'.

___________________________________


स्व-घोषित अवसादों में बने रहना, बदला लेने का एक अन्तर्मुखी तरीका है। 
Being in self-proclaimed depression is an introvert way of taking revenge.

___________________________________

अपने दुख के एवज़ में प्रेम की चाह करना अपने स्व को अपमानित करना है। 
Seeking Love in exchange of sadness is humiliating one's own self.

___________________________________


एक झूठ हज़ारों झूठ का बायस है, न केवल उस पहले वाले को छुपाने हेतु, अपितु पहले वाल ेकी सफलता से उत्साहित होने के कारण भी।
One lie leads to thousand, not only to hide the first one, but also after getting motivated with the success of the first one.


___________________________________



अवसाद से सांत्वना रखो रिश्ता नहीं। 
अवसाद सदैव एक व्यक्ति से उतरकर दूसरेपर चढ़ जाते हैं। 
ऐसे किसी भी रिश्ते में एक ग्लानी युक्त व्यक्ति अपनी ग्लानी कम करनेके लिए आपको लगातार ग्लानी देता रहता है। 
Feel pity for depression but don't get into it. Depressions are contagious.
In any such relationship, a guilt-concise person will keep on giving gilt to you, in order to get rid of his own.

___________________________________


एक पाखंडी प्रेम और नफ़रत में भेद न कर पायेगा। प्रेम और नफ़रत दोनों ही पवित्र* आत्मा के द्वारा सम्भव हैं। 
(*'अच्छे' और'पवित्र' में अंतर है।) 
A Hippocratic can't differentiate between love and hatred. Love and hatred is only possible for a pure* soul. 
(*There's difference between 'pure' and 'good'.)

___________________________________


चीजों को नज़र से देखना चाहिए, नज़रिए से नहीं।
View things, but not with views.


___________________________________


लिख के ले लो कैसिनो में वे ज़्यादा टिप देते होंगे जो हार रहे हैं।
जो जीतते रहे हैं उन्होंने संरक्षित कर लिया जीता हुआ।

___________________________________


अतीत में किया गया एक पुण्य वर्तमान के अनंत पापों की प्रेरणा है।


___________________________________


When you are a victim you question,"Why is this entire world so?"
When you are a culprit you answer,"This is the way, entire world is."

जब आप पीड़ित होते हो तो आप पूछते हो,"ये दुनियां ऐसी क्यूँ है?"
जब आप दोषी होते हो तो आप ही उत्तर भी देते हो,"ये दुनियां ऐसी ही है।"

___________________________________


अपने अंदर के साधू को मार डालो, उसके द्वारा पोषित शैतान भी मर जाएगा।

___________________________________

प्रेम हो तो छुपाना पड़ता है, न हो तो जताना पड़ता है।
मैंने देखीं हैं तुम्हारी दोनों मजबूरियां।

___________________________________

नज़र और बद्दुआ दोनों अस्तित्वहीन होती हैं। अच्छे लोग लगाते और देते नहीं, बुरों की लगती नहीं। 

___________________________________

You need to be very conscious while ignoring.

___________________________________


मुझे आप लोगों से सांत्वना इसलिए है क्यूंकि एक क्षण पूर्व मैं भी आप जैसा ही था।
जानता हूँ आपको भी मुझसे सांत्वना है क्यूंकि एक क्षण पूर्व मैं भी आप जैसा ही था।


___________________________________

मुझे आश्चर्य इस बात पे नहीं होता कि हम अनन्तता को समझ नहीं पा रहे, मैं हतप्रभ इस बात को लेकर होता हूँ कि हम अनन्तता को कैसे आयामों में बाँध पाने में सफ़ल हुए?

___________________________________

पीड़ित व्यक्ति के लिए दोषी को माफ़ करना मुश्किल नहीं है।
मुश्किल है इस सत्य पर विश्वास करना कि पाप कुछ नहीं होता।

___________________________________

Live in Moments, not in Fragments.

___________________________________

नर्क और कुछ नहीं बस स्वर्ग से पैदा हुई ऊब है।
स्वर्ग और कुछ नहीं बस नर्क से पैदा हुई उम्मीद है।

___________________________________

When you start feeling pain of yours then you start feeling pain of others.
Everything else is Philanthropy,an ugliest form or exploitation.

___________________________________


Off-course I agree now, that, there is no pain and pleasure. But mind it, it was very painful journey till here.

___________________________________


I get amused with the sheer fact that how much it's written against writing.
However, what amuses me more is that most of it sounds right.

___________________________________


Everything you do, no matter how creative it sounds, you follow.
The purest form of creativity is nothing-doing.

___________________________________


Your questions are not different than "Mirror-mirror-on-the-wall" question...
...Nobody is interested in truth,what you are interested in, is, what you are interested in.

___________________________________

If you can't do much about it, live the life, the way it is.
If you can't do much about it, leave the life, the way it is.
If you can't do much about it, love the life, the way it is.

___________________________________


Religion can't be a derivative of intelligence.
A true intelligent individual would be anything, but religious.

___________________________________


You are the best person in your opinion, yet you hate yourself.
Now, if you hate the best person in the world, how can you love anyone else?
Should it not be vice-versa?
(Be the worst person in your opinion, and still love yourself. In this way you will by default love everyone.)

___________________________________

Everything said or written ever is false...
...Trust me.

___________________________________

Don't trust me, I am bad. 
But trust me, I am not that bad.

___________________________________

वैसे तो कोई भी अहद ज़िन्दगी भर के लिए नहीं होता पर ज़िन्दगी भर के लिए किये गए अहद की उम्र सबसे छोटी होती है।

___________________________________

प्रेम, सन्दूक में रखे गुलाबी मफ़लर सरीखा होता है। अप्रासंगिक होते हुए भी आपका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करता है।

___________________________________

या अल्लाह, ओह माई गॉड, हाय रब्बा, हे इश्वर...
लडकियों के मुंह से वो ऊपर वाला भी क्यूट लगता है।

___________________________________


तुमने कहा कि प्रेम है तुम्हें मुझसे,
मुश्किल से एडजस्ट कर पाया।
तुमने कहा अब नहीं रहा, मुश्किल से एक्सेप्ट कर पाया।

तुम अब्र सी गोया रुक रुक के बरसती हो। मैं गीली मिटटी सा सूखने को तरसता हूँ।

___________________________________

मेरी सम्वेदनशीलता निश्चित करती है कि किसी को हानि न पहुँचाऊ।
मेरी बुद्धिजीविता निश्चित करती है कि कोई मुझे हानि न पहुंचा पाए।
और मैं निश्चित करता हूँ कि मेरी सम्वेदनाएँ और बौद्धिकता एक दूसरे को हानि न पहुंचाए।

___________________________________

आदमी जितनी तेज़ी से गिरता है उतना हल्का महसूस करता है। 
होता नहीं है बस महसूस करता है।
हल्का वास्तव में होता तो गिरता नहीं...
...उठता।

___________________________________


मैंने देखा है, अच्छा इंसान बनने के लिए, सबसे प्रचलित रास्ता है, अपने से बुरा इंसान ढूंढना।

___________________________________

दुनिया का सबसे कमज़ोर व्यक्ति दुनिया का सबसे मज़बूत व्यक्ति भी होता है। क्यूंकि वो अपनी समस्त कमजोरियों के बावजूद सर्वाइव करता है।

Even the weakest person in the world is the strongest person as well, because despite all his weaknesses, he survives.
___________________________________


वैसे तो मैं इसे कोइन्सिडेंट कहूँगा देवदास, पर क्या ये सच नहीं कि दिल, दुनिया, दर्द, दीवारें और दिल्ली बार बार बनती उजड़ती रही हैं।
और सातों 'द' अक्षर से शुरू होते हैं।
छठी और सातवीं कौन?
छठे तुम देवदास, तुम!
और सातवाँ?
छोड़ो देवदास गिनती। 
मज़े की एक और बात सुनो 'द' से 'दस' तक की गिनती के बाद तो गिनती भी उजड़ जाती है। फिर उन्हीं पुराने अक्षर को लेकर बनाओ ग्यारह...

___________________________________

दिल के ठीक सेंट्रल एरिया में, जिसे कोर ऑव दी हार्ट कहते हैं, एक ज्वालामुखी दबा पड़ा है। किन्तु इसके युगों से सुषुप्तावस्था में रहने के कारण ह्रदय की भूमि अब उपजाऊ हो चली है। यहाँ पर प्रेम और करुणा जैसी वनस्पतियाँ भी पनपने लगी हैं। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि जवालामुखी के अगले सौ वर्षों तक भी सक्रिय होने की कोई सम्भावना नहीं है। छोटे मोटे भूकंप आपेक्षित हैं ब्स।
...तुम यहाँ अपना घर बसा सकती हो।


___________________________________

Happiness and Sadness are 'Deeply rooted habits' not the 'Destiny'.

___________________________________


दुनिया में तीन ही प्राकृतिक रंग हैं; सृष्टि का, क्रान्ति का और तुम्हारी आँखों का।


___________________________________


कहाँ ज़िँदगी मेँ कोई पल रहा है,
समय तेज़ रफ़्तार है, चल रहा है ।
डराना नहीँ चाहता मैँ तुझे, पर,
तेरे आज सा ही मेरा कल रहा है ।

___________________________________

Feeling is important, not knowing.
Earlier I knew this, Now I can feel it.

___________________________________

पूर्ण स्वार्थी उस बच्चे के समान होता है जो अपनी भूख के कारण रोता है बजाय सौतेली मां की इर्ष्या की वजह से..
पूर्ण स्वार्थी वो होता है जो अपनी चोट को देखता है..बजाय आपके खंजर को...
क्या फ़र्क पड़ता है डंडा कोई मारे या लकड़ी पेड़ से टूटके सर पे गिर जाए !
पेड़ पे गुस्सा नहीं आता तो किसी और पे क्यों..?

___________________________________

तुम हाँ भी कहते हो, और कहते भी हो रीड बैकवर्ड...

...HAAN ?

___________________________________

I will always be with You,
You just always be 'You'.

___________________________________


Science and Logic are all work of fiction. It's only Art what's real.

___________________________________


Once Universe was perfect.
Since 'Big Bang' it's just a consequence of perfection.


___________________________________


यदि आप हमें प्रेम गीत गाने की स्वतंत्रता नहीं देते तो भविष्य में निश्चित ही आपको मर्सिया सुनना पड़ेगा।


___________________________________


हम उस पल वृद्ध हो जाते हैं जिस पल से मरने का इंतज़ार करने लगते हैं।

___________________________________


अपराध की स्वीकारोक्ति का क्षण, संयोग से प्रायश्चित का प्रथम क्षण भी होता हैं।

___________________________________


आप सबसे अधिक घृणा उस व्यक्ति से करते हो जिस व्यक्ति सा आप कभी नहीं बनना चाहते, परन्तु सबसे अधिक ईर्ष्या उससे करते हो जिस व्यक्ति सा बनना आपका सदैव स्वप्न रहा है।
उपर्युक्त दोनों प्रकार की मनोभावनाएं अगाध प्रेम में परिवर्तित हो सकती है। इस परिवर्तन में आपकी 'आत्मग्लानी' उत्प्रेरक का कार्य करती है।
 ___________________________________

विश्व में होने वाली प्रत्येक मृत्यु मेरे अमरत्व का प्रमाण है ।

___________________________________

Be extremists. Do everything in extreme.
Love, Hate, Enjoy, Get depressed, Weep, Write, Read, Talk, Play...
And if don't want to do anything whatsoever, then too...
...Be Extremist !

___________________________________

'ज़िन्दगी'
कितनी छोटी होती है न,
"बस इसे बीतते हुए ही देखा है, होते हुए नहीं."

ज़िन्दगी,
कितनी लम्बी होती है ना ?
"ज़िन्दगी भर चलती है."

___________________________________


हर उम्र में हम किसी एक के उम्र लिए बड़े हो चुकते हैं.

___________________________________


किसी कवियत्री को प्रेमिका मत बनाओ।
वो आपके "आई लव यू" को भी क्लिशे कह देगी।

___________________________________

If silence speaks louder than words, I would prefer words over silence to avoid the loudness.


4 टिप्‍पणियां:

  1. उफ़ ... कितनी दिनों बाद आपने कुछ लिखा ... साझा भी किया ...
    हम तो अब भी मुरीद है आपके ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे वाह..... हम भी आज कल यही कर रहे हैं... फेसबुक से उठा कर यहाँ चिपका दिया... क्या है न, यहाँ सेफ रहता है.... :) वैसे मुरीद तो हम भी हैं आपके...

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक विमीय दर्पण .... one dimentional mirror ...
    लाजवाब लकीरें ... अमिट अद्भुत ... (y)

    उत्तर देंहटाएं

'ज़िन्दगी' भी कितनी लम्बी होती है ना??
'ज़िन्दगी' भर चलती है...

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.