शनिवार, 16 नवंबर 2013

आई बैग योर पार्डन




सम्बन्धों का वो सबसे बुरा दौर है 
जब हम भूल चुकते हैं एक साथ रोना
वो जीवन का सबसे दुखद क्षण ठहरा,
जिसमें हम ढूंढते हैं जीने का कम-अस-कम एक उद्देश्य 
एकांत का वो एक पल सबसे मुश्किल पल है
जिस पल एकांत ‘निजी’ नहीं होता
नाउम्मीदी की उम्र कैद कहीं बेहतर,
कठिन है उम्मीद की एक रात गुज़ारना 
धोखा खाना उतना बुरा नहीं 
जितना बुरा होता है सचेत हो जाना.
आत्महत्या की भी चाह न रहना,
सबसे खतरनाक निर्लिप्तता है.
सबसे डरावनी वो मृत्यु है जिसका आजन्म इच्छा की गयी हो

एक याद रह गयी कविता है सबसे निकृष्ट कविता.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

'ज़िन्दगी' भी कितनी लम्बी होती है ना??
'ज़िन्दगी' भर चलती है...

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.