सोमवार, 22 फ़रवरी 2010

कवि की अंतिम इच्छा




निकास की देहरी पर बैठी,
रात का,
अलसाई सुबह की प्रथम प्रहर से,
'आलिंगन'
...निषिद्ध हो !

ये,
प्रेमाभिव्यक्ति का समय...
कतई नहीं है .

ये समय बिलकुल ठीक है...

दिलों में उठते कारखानी - धुओं को,
बुझाने वालों,
या...
उसे फूंक फूंक कर,
आँखें धुआंधार करने वालों,
में से,
किसी एक को चुनने का,

भीड़ का हिस्सा बन के,
सामूहिक क्रंदन करने का.
ताकि,
बेशक आवाज़ नहीं.
कम से कम...
शोर तो सुनाई दें,

...ये समय है लहलहाते गाँव के पत्तों का सच जानने का...
टिड्डियाँ हों...
...ताकि कोई 'एक' न दोषी ठहराया जाये .

और अगर व्यक्त होना अश्लीलता है,
तो ये समय है अंतरात्मा के नग्न होने का,
यदि विरोध युद्ध है,
तो ठीक इस समय...
पर कुतर दिए जाने चाहिए पवित्र से पवित्र समर्थन के,

नपुंसकों द्वारा,
सहमति के नाम पे किये गए,
सामूहिक बलात्कार,
और...
बिल्लियों और गीदड़ों की,
पृष्ठ भूमि पर खड़ा,
पुरुष रहित समाजशास्त्र,
यदि शब्दों से और अभिव्यक्ति से कम 'गालियाँ' हैं तो...

कवि तू दोषी है,
अपराध के लिए,
दंड वो देंगे...
जिनके प्रति सरोकार था तेरा.

और उन सरोकारों के एवज़  में,
क़त्ल हो जाने से पहले तक का...
ये समय तेरा है.
...कविता का समय?
मौत का...
और ठीक उसके बाद.




31 टिप्‍पणियां:

  1. ज़िन्दगी भी कितनी लम्बी होती है ना??
    उम्र भर चलती है...

    एक हीं जिन्दगी में क्लाइमेक्स और एंटी क्लाइमेक्स दोनों...

    उत्तर देंहटाएं
  2. पहली कविता में वर्तमान समय कि नपुंसकता पर कवि का आक्रोश झलकता है तो दूसरी में ..जहाँ तक मैं समझ सका..मछलियों के रूप में आदमी के चरित्र पर व्यंग्य है कि मछलियाँ फसंती ही नहीं फिसलती भी है ..जब अपने पर बीतती है तब अच्छा नहीं लगता.
    ..शेष आप बेहतर बता सकते हैं कि क्या कहना चाहते हैं..!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ...ये समय है लहलहाते गाँव के पत्तों का सच जानने का...
    टिड्डियाँ हों...

    ...ताकि कोई 'एक' न दोषी ठहराया जाये .

    लहलहाते गाँव, जिन्हें टिड्डियाँ चाट रही हैं...आज भी और पाश के समय में भी...है ना?

    उत्तर देंहटाएं
  4. और अगर व्यक्त होना अश्लीलता है,
    तो ये समय है अंतरात्मा के नग्न होने का,

    जादू भरे शब्द है, दर्पण!

    उत्तर देंहटाएं
  5. "दर्पण, आपकी टिप्पणी भी उतनी ही अद्भुत है जितनी आपकी कविताएँ
    .."
    प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. दोनों ही रचनाएँ मुग्ध और निःशब्द करने वाली हैं...
    लाजवाब ....सिम्पली ग्रेट....वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्लाइमेक्स और एंटी क्लाइमेक्स के बीच यह तस्वीर किसकी है ?
    आपकी तो नहीं ?

    इतना अच्छा कैसे लिख लेते है आप I सुन्दर I

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतना अच्छा कैसे लिख लेते हैं आप। कई बार आपकी इस टिप्पणी बाक्स में पढने को मिला है। अब फर्ज़ बनता है कि बता ही दो।

    उत्तर देंहटाएं
  9. जो कहना है चिठ्ठाचर्चा पर कह दिया है... यहाँ तारीफ नहीं ऑफिस टाइम में सिगरेट मन है ना ?
    हमें अपूर्व का thankful होना चाहिए नहीं ? यह हिंदी.कॉम कैसे लगाया, मुझे भी लगाना है .

    हाँ पहली कविता हद है... पाश के पाश से कोई कैसे बच सकता है?कुछ खतरे उठाने होंगे और यही उम्र है, दियासलाई खोजने की

    दूसरी समझदार.

    उत्तर देंहटाएं
  10. निःशब्द
    स्तब्ध
    जड़ .....
    बस इससे ज़्यादा कुछ कहने की स्थिति में नही ..........

    उत्तर देंहटाएं
  11. और अगर व्यक्त होना अश्लीलता है,
    तो ये समय है अंतरात्मा के नग्न होने का,
    Bahut khoob!

    उत्तर देंहटाएं
  12. aaj ki dono hi rachnayein adbhut hain..........kavi ka krandan bahut hi satik tarike se pesh kiya hai aur doosri rachna to samaaj ka aaina hai.

    उत्तर देंहटाएं
  13. क्या कहूँ एक तो बहुत दिनों बाद आना हुआ आपके ब्लोग पर रचनाए पढकर नि:शब्द हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. दोनों ही बहुत अच्छी रचनाएँ हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सही है डियर, यह जहर २४ घंटे मे ही असर दिखाता है, पता न था..और असर भी तो कैसा...काश कि मैं कुछ कहने लायक होता..और फिर इस पुरुषरहित समाजशास्त्र की तल्खी....हाँ दूसरी कविता थोड़ा और वक्त मांगती है..सो ’मिनिमाइज’ कर के रखा है इसे..दोबारा के लिये..काफ़ी कुछ बाकी है अभी..

    उत्तर देंहटाएं
  16. ..और ब्लॉग का यह नया कलेवर..काफ़ी दिलकश लग रहा है अभी तो..:-)

    उत्तर देंहटाएं
  17. हाँ यह कयामत की तारीख कैसे मुल्तवी हुई है? ;-)

    उत्तर देंहटाएं
  18. जैसे किताबे छाँटते हुए कोई पुरानी किताब हाथ लग गयी हो और जिसमे किसी भूली बिसरी क्रांति का ज़िकर हो.
    ऐसी ही लगी ये रचना.
    जैसे किसी के सपने को छू के देखने की कोशिश हो कोई.
    ये नज़्म किसी इक जुबान या कौम को belong नहीं करती.
    मुक्त है हर हदबंदी से.
    इक सोच है,चेतनता है,बेकरारी भी है और चैन भी.
    गुलज़ार की इक नज़म का टुकड़ा..
    उस बार कुछ ऐसा हुआ,
    क्रांति का अशव तो निकला था,
    पर थमने वाला कोई न था,
    जाबाजों के लश्कर पहुंचे मगर,
    सालारने वाला कोई न था.

    उत्तर देंहटाएं
  19. आज हैरान कम हूँ..
    परेशान ज़्यादा....

    उत्तर देंहटाएं
  20. "होली की ढेर सारी शुभकामनाएँ......."
    प्रणव सक्सैना
    amitraghat.blogspot.

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपको और आपके परिवार को होली पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  22. shandar rachna abhivyakti

    रंग लेकर के आई है तुम्हारे द्वार पर टोली
    उमंगें ले हवाओं में खड़ी है सामने होली

    निकलो बाहं फैलाये अंक में प्रीत को भर लो
    हारने दिल खड़े है हम जीत को आज तुम वर लो
    मधुर उल्लास की थिरकन में आके शामिल हो जाओ
    लिए शुभ कामना आयी है देखो द्वार पर होली

    उत्तर देंहटाएं
  23. aap ki kavitayen utkrast evm jan sadharan ke dard ka pritbimb hai. meri bahut shubhkamnayen.
    krapaya mera bhi blogger pr aspandan blogg dekhey. aapke sujav humeyn protsahit karenge.
    dhanyavad.

    उत्तर देंहटाएं
  24. मैं कवि नहीं हूँ

    मैं कवि नहीं हूँ,
    क्योंकि कोई भी गुण
    नहीं है हमारे अन्दर
    जो होता है,
    एक कवि में.
    न तो दिखने में ही
    कवि लगता हूँ,
    और कवियो वाली पोशाक भी
    नहीं पहनता.
    फिर भी न जाने क्यों?
    ऐसा लगता है,
    दिल के कोई कोने में,
    छुपा है.....
    मेरा कवि मन.
    जो चाहता है,
    मुझे कवि बनाना.
    उसके अन्दर दृढ इच्छा है,
    कठोर परिश्रम है,
    जो बदल देगा,
    मेरा बजूद.
    हाँ देखना एक दिन
    वह जरुर बदल देगा,
    और ला खड़ा करेगा,
    मुझे........
    भविष्य में कभी
    कवियों की लम्बी लाईन में

    उत्तर देंहटाएं
  25. विद्रोह के स्वर बौद्धिकता के संस्पर्श से प्रखर,आपकी कविता बहुत मुखर !


    .

    उत्तर देंहटाएं

'ज़िन्दगी' भी कितनी लम्बी होती है ना??
'ज़िन्दगी' भर चलती है...

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.